कांवड़ यात्रा के लिए चप्पे-चप्पे पर रहेगी पुलिस की निगरानी

0
74

मेरठ । कांवड़ यात्रा के लिए मवाना क्षेत्र के लिए 2 जोनल और 10 सेक्टर मजिस्ट्रेट को जिम्मेदारी दी गई है जो पल पल की जानकारी अफसरों को देंगे ओर कोई भी समस्या आने पर तत्काल उसका समाधान कराएंगे। SDM अखिलेश यादव ने शुक्रवार को तहसील सभागार में आयोजित बैठक के दौरान सभी मजिस्ट्रेट की बैठक लेते हुए उन्हें उनकी जिम्मेदारी से अवगत कराया। कहीं भी बड़ा हादसा होने पर तत्काल उसकी रिपोर्ट भी देनी होगी।

SDM अखिलेश यादव ने बताया कि डिवाइडर पर कांवड़ का स्टैंड न बने, इससे दूसरी पटरी पर चलने वाले वाहनों और लोगों के कांवड़ से टकराने की संभावना हो सकती है। शिविरों में सभी सेक्टर और जोनल मजिस्ट्रेट खाने की गुणवत्ता की जांच करेंगे। तहसील में बनाए गए कंट्रोल रूम में सारी सूचनाएं अपडेट की जाएंगी। सड़क किनारे स्ट्रीट लाइट और साफ-सफाई का रोजाना ध्यान रखा जाएगा। कांवड़ यात्रा के दौरान मार्ग में पड़ने वाली मीट की दुकानें बंद रहेंगी। चिकित्सा शिविर कहां-कहां लगाए गए हैं इसकी सूची भी सेक्टर-जोनल प्रभारी पर रहेगी। कांवड़ मेले तक कोई भी अधिकारी बिना उच्चाधिकारियों को बताए जिले से बाहर नहीं जाएगा।

नगर की गंगनहर पटरी पर प्रशासन ने पूर्व वर्षों की तरह कांवड़ियों के निकलने के लिए इंतजाम किए हैं। एक ओर मार्ग पर कांवड़ चलती रहेगी। इस बीच अगर जरुरत पड़ी तो पुलिस निगरानी के साथ ड्यूटी भी लगाई जाएगी। रूट डायवर्जन को लेकर हर मार्ग पर वैकल्पिक मार्ग की तलाश कर ली गई है ताकि समस्या आने पर इन मार्गों का इस्तेमाल किया जा सके। कई जगह सड़कों पर अभी भी गड्ढे नहीं भरे हैं। पीडब्लूडी और एनएचएआई के अधिकारियों को यहां पर पेचवर्क कराने के निर्देश दिए गए हैं।

SDM अखिलेश यादव ने बताया कि तहसील प्रशासन द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप तैयार किया जाएगा जिसमें सभी मजिस्ट्रेट कोई भी समस्या होने पर जानकारी देंगे। इसका समय रहते निस्तारण किया जाएगा। वहीं, इस ग्रुप पर प्रत्येक शिविर में की गई सभी व्यवस्थाओं की मौके पर जाकर की गई जानकरी सभी मजिस्ट्रेट डालेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here