प्रेमिका की रिंग के लिए पंप मैनेजर से की 7 लाख की लूट

0
29

मेरठ । मेरठ पुलिस ने 28 जून को हुई पेट्रोल पंप मैनेजर से 7 लाख की लूट घटना का खुलासा किया है। लूट में शामिल गाजियाबाद गैंग के तीन सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से पुलिस ने 3 लाख 36 हजार रुपए, 2 बाइक और 3 मोबाइल फोन बरामद किया हैं। पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि शौक पूरा करने के लिए घटना को अंजाम दिया था। गैंग में शामिल आरोपी संदीप ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि गर्लफ्रेंड के लिए रिंग गिफ्ट करनी थी। इसके चलते लूट का प्लान बनाया था।

कंकरखेडा क्षेत्र में डाबका रोड के पास इंडियन ऑयल का पेट्रोल पंप है। 28 जून की शाम पौने 4 बजे पंप मैनेजर योगेंद्र कुमार अपने साथी के साथ बाइक से 7 लाख रुपये कैश लेकर बैंक में जमा करने पहुंचे थे। पंप से करीब 400 मीटर की दूरी पर 2 बाइकों पर पहुंचे 6 बदमाशों ने मैनेजर की बाइक में साइड मारकर गिराया था। उसके बाद 7 लाख रुपये का बैग लूटकर गोली मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए। पकड़े गए युवकों ने बताया कि गाजियाबाद के मोदीनगर में रेलवे स्टेशन पर लूट की प्लानिंग बनाई गई थी। एक सप्ताह से रैकी भी की गई थी।

एसएसपी रोहित सजवान ने बताया कि कई स्थानों पर पुलिस ने सीसी टीवी फुटेज देखी गई। जिसके बाद एसओजी, सर्विलांस टीम और थाना पुलिस को लूट की घटना के लिए लगाया। जहां पुलिस ने लूट में शामिल तीन लुटेरों को कंकरखेड़ा में हाइवे के पास से गिरफ्तार किया है।

एसएसपी ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि पूछताछ में पता चला है कि पंप पर काम कर चुके एक कर्मचारी ने लूट कराने के लिए रैकी कराई थी। इस कर्मचारी ने यशू और संदीप को बताया था की कंकरखेड़ा में पेट्रोल पंप का मैनेजर हर रोज कैश लेकर जाता है। कई बार कार से तो कई बार बाइक से जाता था।

पंप से लेकर कंकरखेड़ा तक बीच में कहीं भी पुलिस नहीं रहती। जिसके बाद संदीप के मन में आया कि यदि कैश लूट लिया जाए तो शौक भी पूरा हो जाएंगे। लूट के बाद सभी बदमाश गंगनहर की पटरी और गांवो के रास्ते मोदीनगर जिला गाजियाबाद में पहुंचे थे।

गिरफ्तार संदीप और हर्ष शातिर किस्म के हैं। संदीप ने पूछताछ में पुलिस को बताया था कि उसकी मोदीनगर में एक प्रेमिका है। प्रेमिका की शौक पूरा करने के लिए संदीप अपने साथियों के साथ लूट के लिए उतर आया। संदीप ने बताया कि प्रेमिका लंबे समय से गिफ्ट मांग रही थी, जिसे एक रिंग देने का वादा किया था। लेकिन उससे पहले ही लूट में पकड़े गए। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान हर्ष उर्फ मोगली, संदीप शर्मा, प्रिंस के रूप में हुई है।

वहीं, घटना में शामिल अभी तक तीन फरार हैं। फरार आरोपियों में प्रिन्स उर्फ दरोगा, यशु उर्फ बिलाल और हिमांशु उर्फ चैंटा के रूप में हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here