बीएसए चार सदस्यीय टीम गठित कर कराएंगे जांच 

0
39

मेरठ । कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय मवाना में मंगलवार को बीमार हुई बालिकाओं के मामले में जिला प्रशासन गंभीर है। जिला प्रशासन के आदेश पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी इस मसले की चार सदस्यीय टीम गठित कर जांच कराएंगे। उन्होंने जनरेटर बंद रहने के मामले की रिपोर्ट DM को सौंप दी है। वहीं बुधवार शाम पांच बजे SDM अखिलेश यादव ने बालिकाओं से स्वास्थ्य की जानकारी ली और शिक्षिकाओं को विद्यालय में शिक्षा का बेहतर वातावरण बनाने के आदेश दिए।

कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय मवाना में मंगलवार को 22 बालिकाओं की नाश्ते में पकौड़ी खाने के बाद तबियत खराब हो गई थी। अब सभी बालिकाएं स्वस्थ हैं। बुधवार को विद्यालय पहुंचे जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगेन्द्र कुमार ने बताया कि मवाना से कस्तूरबा गांधी विद्यालय की वार्डन अमृता का तबादला शासन की प्रक्रिया के तहत किया गया है। वहीं उनके खिलाफ जांच होना भी तबादले का एक कारण रहा है। उन्होंने कहा कि मंगलवार को हुई घटना केवल ज्यादा गर्मी के चलते हुई है। यहां पर कूलर खराब होना व जनरेटर नहीं चलना भी मुख्य कारण रहा है। इस मसले की जांच चार सदस्यीय कमेटी करेगी। वे DM की स्वीकृति के बाद जांच टीम जल्द बनाएंगे।

उन्होंने बताया कि बिजली चली जाने के बाद यदि समय से जनरेटर चलाया जाता तो शायद बालिकाओं की हालत गर्मी से इतनी खराब नहीं होती। उन्होंने इस मामले की रिपोर्ट डीएम को सौंप दी है। बुधवार शाम को पहुंचे एसडीएम अखिलेश यादव ने बताया कि उन्हें पता चला कि विद्यालय में लगे दो कूलर खराब हैं, उनके जल्द ठीक कराने को कहा। वहीं जो शासन से सुविधाएं मिली हैं, जैसे जनरेटर बिजली चली जाने पर अवश्य चलाया जाए। उन्होंने कहा कि खाद्य पदार्थ उच्च मानक के खरीदे जाएं और खाने बनने के बाद उसे स्वयं वार्डन चखें और बाद में बालिकाओं को परोसा जाए। उन्होंने बताया कि शिक्षिकाएं परिसर में बालिकाओं को शिक्षा के लिए अच्छा वातावरण बनाएं।

SDM अखिलेश यादव ने बताया कि इस विद्यालय की एक छात्रा गुंजन की तबियत ठीक है लेकिन मेडिकल कॉलेज से उसे बुधवार को रिलीव नहीं कराया गया है। आज सुबह उसे मेडिकल से छुट्टी मिल जाएगी। वह पूर्ण रूप से स्वस्थ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here