रैपिड रेल: अब दुहाई से शताब्दीनगर में होगा हाईस्पीड काम

0
54

मेरठ । दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल का काम अब दूसरे चरण में हाईस्पीड पर है। पहला चरण साहिबाबाद से दुहाई है तो दूसरा चरण दुहाई से शताब्दीनगर। दूसर चरण में 32 किलोमीटर में हाईस्पीड काम की वजह से 4700 पिलर का फाउंडेशन बनकर तैयार हो चुका है। सात स्टेशनों का निर्माण भी युद्ध स्तर पर चल रहा है।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) के 82 किमी लंबे रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) परियोजना के तहत पहला प्राथमिकता खंड साहिबाबाद से दुहाई है। 17 किलोमीटर के इस प्राथमिकता खंड में ट्रैक निर्माण, स्टेशन निर्माण अंतिम चरण में है। फाइनल टच दिया जा रहा है ताकि अगले साल संचालन शुरू हो सके। उधर, दूसरा चरण दुहाई से शताब्दीनगर के बीच पिलर फाउंडेशन का निर्माण कार्य 85 प्रतिशत पूरा हो चुका है। 32 किलोमीटर में स्टेशनों को तैयार करने का कार्य भी तेजी से चल रहा है। कॉरिडोर के इस भाग के लिए करीब 5500 पिलर फाउंडेशन बनाए जाने हैं और अब तक 4700 पिलर फाउंडेशन बनकर तैयार हो चुके हैं, यानि इसका 85 फीसदी निर्माण कार्य पूरा हो चुका है।

दुहाई से शताब्दीनगर के बीच करीब 32 किमी के खंड पर मुरादनगर, मोदीनगर साउथ, मोदीनगर नॉर्थ, मेरठ साउथ (परतापुर तिराहा), परतापुर, रिठानी और शताब्दीनगर कुल सात स्टेशनों का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here