स्ट्रीट डॉग को थे 6 फ्रैक्चर युवाओं ने दिया जीवनदान

0
44

मेरठ । फीट फाउंडेशन यानि फ्रॉम एक्स्ट्रा टू इनफ फाउंडेशन की शुरूआत बेगमबाग निवासी इशान चावला और अनमोल धींगरा ने की है। इशान कहते हैं फैमिली से ही दानपुण्य करना सीखा है। सोचा इससे और लोगों को जोड़ूं। भाई और मैंने मिलकर अपनी सोच को फीट फाउंडेशन में तब्दील कर दिया। पहले हम स्वीगी से बचा हुआ खाना लेकर उसे गर्म करके गरीबों को खिलाते थे। यहीं से सोचा कि जिनके पास ज्यादा है उनसे वो सामान लेकर जरूरतमंदों को दिया जाए।

यही हम आज भी करते हैं। इसलिए संस्था का नाम फीट रखा। हम ऑनलाइन प्लेटफार्म के माध्यम से काम करते हैं। प्लांटेशन, बर्ड सेविंग, गरीब बच्चों को फ्री एजुकेशन, स्ट्रीट डॉग्स की केयरिंग पर हमारी संस्था काम रकती है। आज दिल्ली, चंडीगढ़, देहरादून, बंगाल, पानीपत तक हमारी संस्था की शाखाएं हैं। देश में 700 लोग हमारे वालंटियर्स हैं। मेरठ में 20 लोग काम करते हैं। कॉलेज स्टूडेंट्स भी हमारे साथ इंर्टनशिप करते हैं।

फीट से जुड़ी देवांशी कहती हैं स्ट्रीट डॉग्स को लोग बहुत बुरा बिहेव करते हैं। उनको हिट करके चले जाते हैं। हमने सोचा कि इनको प्रापर जिंदगी देने पर काम होना चाहिए। फीट ने ये काम शुरू किया। लोग हमें कॉल करके ऐसे डॉग्स की सूचना देते हैं हम वहां जाकर उनकी हेल्प करते हैं। इलाज और देखभाल में जो पैसा लगता है वो ग्रुप के सदस्य अपनी पॉकेटमपनी और ऑनलाइन फंड रेजिंग के जरिए कलेक्ट करते हैं। अब तक 100 से ज्यादा स्ट्रीट डॉग्स का उपचार कराकर उनको ठीक कर चुके हैं। हर सप्ताह इनको खाना भी बांटते हैं। चाइनजी मांझे से घायल पक्षियों का इलाज भी कराते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here