सिद्धार्थ नाथ सिंह ने जनसंख्या नियंत्रण कानून की वकालत करते हुए कहा- काम मुश्किल मगर असंभव नहीं

0
40

यूपी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर देश में जनसंख्या नियंत्रण की वकालत करते हुए कहा है कि इस मुद्दे पर PM नरेंद्र मोदी और CM योगी आदित्यनाथ का विजन बिलकुल सही है। प्रयागराज पश्चिम से वर्तमान विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि आज जरूरत इस बात की है कि हम जनसंख्या नियंत्रण कानून लेकर आएं।

उन्होंने पिछले साल PM मोदी के संबोधन का हवाला देते हुए कहा कि PM मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा था कि ‘हमारे घर में एक बच्चे के जन्म से पहले, हमें यह पूछना चाहिए कि क्या हमने बच्चे की जरूरतों को पूरा करने के लिए खुद को तैयार किया है, या हम बच्चे को समाज और उसके भाग्य के हाथों में छोड़ने जा रहे हैं?’ पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा था- कोई भी मां-बाप ऐसा नहीं हो सकता जो बच्चों को दुनिया में लाता रहता है लेकिन उन्हें ऐसा जीवन जीने के लिए मजबूर करता है। इस पर सामाजिक जागरूकता की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि भारत 2030 तक चीन की जनसंख्या 145 करोड़ की संख्या को पार कर दुनिया में सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि यदि हम भारत के दो प्रमुख धार्मिक समूहों पर विचार करें तो 1951 से 2011 के बीच उनकी जनसंख्या में कितनी वृद्धि हुई है। हिंदुओं की बात की जाए तो 30.4 करोड़ से बढ़कर 96.6 करोड़ हो गए जबकि इस दौरान मुस्लिम आबादी 3.5 करोड़ से बढ़कर 17.2 करोड़ हो गई । इसलिए यह कोई छिपा हुआ तथ्य नहीं है कि मुसलमानों की विकास दर हिंदुओं की तुलना में दोगुनी से अधिक थी। यदि आलोचक इन तथ्यों को देखेंगे तो जनसंख्या असंतुलन का अर्थ समझेंगे।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने जनसंख्या नीति तैयार और लागू की है। अब समय आ गया है कि उत्तर प्रदेश जनसंख्या नियंत्रण के मसौदे की गहराई से जांच की जाए। भारत को विकास के लिए ये महत्वपूर्ण है कि उत्तर प्रदेश में प्रजनन दर 2.7 प्रति हजार को 2030 तक 1.9 प्रति हजार पर लाया जाए। उन्होंने ये भी कहा कि योगी-मोदी की डबल इंजन सरकार के तहत ये बड़ा काम है लेकिन ये असंभव नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here