सीएचसी में तड़पते रहे घायल, नहीं मिला इलाज

0
18

सरधना। मंगलवार रात सरधना सीएचसी में घायल अवस्था तें तड़पते हुए आए मरीजों को इलाज नहीं मिला। आरोप है कि चिकित्सक इमरजेंसी में मौजूद थे, लेकिन उन्होंने इलाज करना तो दूर की बात उनका हाल तक जानन गवारा नहीं समझा। घायल तड़पते रहे, लेकिन चिकित्सक थाने से मिलने वाली मजरूबी चिट्ठी आने के बाद ही इलाज की बात कहते रहे। करीब छह घंटे बाद सुबह में सभी घायल बिना इलाज के ही यहां से वापस लौटे।

मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार देर रात सरूरपुर थाना क्षेत्र के मैनापुठी गांव में दो पक्षों में खूनी संघर्ष हो गया। दोनों पक्षों के काफी लोग घायल हो गए। एक पक्ष के लोग इलाज कराने सीएचसी सरूरपुर पहुंच गए जबकि दूसरे पक्ष के लोग सरधना सीएचसी आ गए। सभी लोगों को गंभीर चोट लगी हुई थी। कई के सिर फूटे हुए थे, तो कई को हाथ और पैरों में चोट लगी हुई थी। रात करीब 12 बजे सभी घायल यहां पहुंचे थे। उन्हें देख इमरजेंसी में मौजूद स्टॉफ इलाज करने के लिए अलर्ट तो हुआ, लेकिन उनके पास थाने से मिलने वाली मजरूह चिट्ठी न होने के चलते उपचार नहीं किया। सभी घायल घंटों तक सीएचसी में ही दर्द से तड़पते रहे, लेकिन उनकी किसी ने नहीं सुनी। 12 बजे से सुबह सात बजे तक सभी घायल सीएचसी परिसर में ही घायल अवस्था में पड़े रहे, लेकिन उन्हें प्राथमिक उपचार भी यहां नहीं मिला जबकि प्राथमिक उपचार बिना मजरूबी चिट्ठी के किसी को भी दिया जा सकता है। पीड़ितों ने इस मामले की शिकायत स्वास्थय विभाग के उच्च अधिकारियों से करने की बात कही है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here